यूपी में बकरीद को लेकर योगी सरकार की गाइडलाइन, 1 अगस्त को बकरीद


मरकजी चांद कमेटी के मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली व शिया
चांद कमेटी के अध्यक्ष मौलाना सैफ अब्बास ने बताया कि मंगलवार को ईदुल अजहा
का चांद नजर नहीं आया है। लिहाजा बकरीद का त्योहार एक अगस्त, शनिवार को
मनाया जाएगा।



लखनऊ। ईद उल-अज़हा बकरीद का त्योहार 1 अगस्त को
मनाया जाएगा। मरकजी चांद कमेटी के मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली व शिया
चांद कमेटी के अध्यक्ष मौलाना सैफ अब्बास ने बताया कि मंगलवार को ईदुल अजहा
का चांद नजर नहीं आया है। लिहाजा बकरीद का त्योहार एक अगस्त, शनिवार को
मनाया जाएगा। 

इदारा ए शरीया के मौलाना अबुल इरफान
मियां फरंगी महली ने बताया कि कहीं से भी मंगलवार को चांद नजर आने की
तस्दीक नहीं की गई है। लिहाजा इस्लामिक महीने जिलहिज्जा की पहली तारीख
गुरूवार को होगी। बकरीद का त्योंहार एक अगस्त को मनाया जाएगा।

बकरीद और जानवरों की कुर्बानी के लिए गाइडलाइन जारी

इस साल कोरोना संकट और सावन के महीने को देखते उत्तर प्रदेश की योगी
सरकार ने बकरीद और जानवरों की कुर्बानी के लिए गाइडलाइन जारी की है। सरकार
ने कोरोना के संक्रमण के डर से सभी धार्मिक स्थलों के लिए भी दिशा निर्देश
जारी किए हैं। इन निर्देशों के मुताबिक, किसी भी धार्मिक स्थल में सामूहिक
रूप से भीड़ इकट्ठा न की जाए। इसके अलावा यूपी के डीजीपी द्वारा जारी
किए पत्र में सांप्रदायिक भावनाओं का भी ध्यान रखने के लिए बोला गया है।

पत्र में यूपी के सभी जिलों के पुलिस अधिकारियों से कहा गया है कि कुर्बानी
के दौरान गोवंश की हत्या से कई बार पहले भी सांप्रदायिक तनाव उत्पन्न हुआ
है। इसलिए इस बात का खास ध्यान रखा जाना चाहिए.गाइडलाइन में कहा
गया, ‘पुलिस लाउडस्पीकर का इस्तेमाल कर लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन
करने के लिए जागरूक करे। सोशल मीडिया पर भी नजर बनाए रखें. भ्रामक सूचना
प्रसारित करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए. थानाध्यक्ष और
क्षेत्राधिकारी छोटी से छोटी घटना को गंभीरता से लें.’

पत्र में पुलिस अधिकारियों को कहा गया कि प्रतिबंधित पशुओं की कुर्बानी की
अफवाहों से इलाके में तनाव उत्पन्न हो सकता है। इसलिए इस बात का खास ध्यान
रखें. बकरीद का त्योहार 1 अगस्त को मनाया जाएगा और ये तीन दिन तक मनाया
जाता है। ऐसे में यूपी के डीजीपी ने पुलिस अधिकारियों को सतर्क रहने के लिए
कहा है।