मथुरा में रामलीला का इस साल नहीं होगा मंचन, कोरोना के कारण 175 सालों की परंपरा पर लगा ब्रेक

भाषा भाषा
उत्तर प्रदेश Updated On :

मथुरा। उत्तर प्रदेश के मथुरा में 175 सालों से चली आ रही रामलीला मंचन की परंपरा इस बार कोरोना वायरस महामारी के कारण टूट जाएगी। जिला प्रशासन ने शहर की मुख्य रामलीला की आयोजनकर्ता संस्था श्रीराम लीला सभा को इस बार कोविड-19 नियमावली के निर्देशों के मद्देनजर मंचन की इजाजत नहीं दी है।

ऐसे में श्रीराम लीला सभा ने इस बार कुछ विशेष लीलाओं का मंचन करके किसी तरह परंपरा को बरकरार रखने की कोशिश करने का निर्णय लिया है। श्रीराम लीला सभा के अध्यक्ष लाला जयंती प्रसाद अग्रवाल ने बताया, “मथुरा में इस बार श्रीराम बारात नहीं निकलेगी और न ही जनकपुरी सजेगी जबकि रामलीला मंचन के दौरान राम-रावण युद्ध के अलावा यही दो लीलाएं ऐसी होती हैं जिनके दर्शन के लिए हजारों की संख्या में श्रद्धालु आते हैं।”

उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से सरकार ने बड़ी संख्या में लोगों के जमा होने पर प्रतिबंध लगा रखा है जिसकी वजह से सभा ने इस वर्ष आयोजन नहीं करने का फैसला किया है। यह पहला मौका होगा जब 175 सालों से लगातार मंचित हो रही रामलीला का इस बार सार्वजनिक मंचन नहीं होगा।