स्वास्थ्यकर्मी ने फांसी लगाकर दी जान, सीएचसी अधीक्षक व डॉक्टर पर केस


एसएचओ ने बताया कि फिलहाल अभी किसी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। मामले की जांच की जा रही है। पुलिस की सूचना पर पहुंचे मुख्य चिकित्सा अधिकारी और बिंदकी के उप जिलाधिकारी ने मौके का मुआयना किया है।



फतेहपुर। फतेहपुर जिले के बिंदकी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) में कार्यरत एक चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी ने सोमवार को अस्पताल परिसर में बने अपने सरकारी आवास में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। इस मामले में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अधीक्षक व एक अन्य चिकित्सक के खिलाफ आत्महत्या के लिए बाध्य करने का मामला दर्ज किया गया है।

बिंदकी कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक सत्येन्द्र सिंह ने बताया कि बिंदकी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) में कार्यरत चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी नरेश कुमार (45) ने सोमवार सुबह करीब 10 बजे अस्पताल परिसर में बने अपने सरकारी आवास की छत में लगे पंखे में रस्सी बांधकर फांसी का फंदा लगा लिया, जिससे उसकी मौत हो गई।

इस सिलसिले में मृत स्वास्थ्यकर्मी के परिजन की तहरीर पर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अधीक्षक डॉ. सुनील चौरसिया और एक अन्य चिकित्सक डॉ. अनूप पटेल के खिलाफ आत्महत्या के लिए बाध्य करने के लिए धारा 306 और एससी/एसटी एक्ट के तहत देर रात मामला दर्ज किया गया है।

एसएचओ ने बताया कि फिलहाल अभी किसी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। मामले की जांच की जा रही है। पुलिस की सूचना पर पहुंचे मुख्य चिकित्सा अधिकारी और बिंदकी के उप जिलाधिकारी ने मौके का मुआयना किया है। इसके बाद शव पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया।

उन्होंने बताया कि मृत स्वास्थ्यकर्मी अपने सरकारी आवास में अकेले ही रहता था। वह सोमवार को फतेहपुर शहर के हरिहरगंज मुहल्ले में स्थित अपने निजी आवास से यहां सुबह करीब साढ़े नौ बजे आया था और कुछ ही देर बाद उसने फांसी लगा ली। उसकी पत्नी और बच्चे फतेहपुर के निजी आवास में ही रहते हैं।