देवरियाः पार्टी बैठक में महिला कार्यकर्ता तारा यादव के साथ हाथापाई मामले में प्रियंका हुईं सख्त, दो नेता निलंबित


इस मामले में देवरिया कांग्रेस के दो नेता दीनदयाल यादव और अजय कुमार सिंह सैथवार को निलंबित कर दिया गया है। इसके साथ ही इस प्रकरण की जांच के लिए एक समिति गठित कर दी गई है। इस कमेटी में तलत अजीज, शहला अहरारी और चन्द्रकला पुष्कर को रखा गया है। कमेटी तीन दिनों के भीतर अपनी रिपोर्ट देगी।


कांग्रेस नेत्री तारा यादव के साथ मारपीट की गई।


लखनऊ। पूर्वी उत्तर प्रदेश के देवरिया में गत शनिवार को कांग्रेस पार्टी की बैठक के दौरान महिला कार्यकर्ता तारा यादव से कुछ पार्टी कार्यकर्ताओं की मारपीट पर पूर्वी उत्तर प्रदेश की कांग्रेस प्रभारी प्रियंका गांधी ने काफी कड़ा रुख अख्तियार किया है। इस अनुशासनहीनता के खिलाफ कार्रवाई करते हुए यूपी प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने दो पदाधिकारियों को पद से मुक्त कर दिया है।

कांग्रेस पार्टी ने इन नेताओं के निलंबन के साथ ही इस प्रकरण की जांच करने के लिए तीन सदस्यीय टीम का गठन किया है। यह समिति तीन दिन में अपनी जांच रिपोर्ट सौंपेगी।कांग्रेस कार्यकर्ता तारा यादव द्वारा इस प्रकरण में पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा का नाम लेकर कार्रवाई की मांग यह कार्रवाई की गई है।

इस मामले में देवरिया कांग्रेस के दो नेता दीनदयाल यादव और अजय कुमार सिंह सैथवार को निलंबित कर दिया गया है। इसके साथ ही इस प्रकरण की जांच के लिए एक समिति गठित कर दी गई है। इस कमेटी में तलत अजीज, शहला अहरारी और चन्द्रकला पुष्कर को रखा गया है। कमेटी तीन दिनों के भीतर अपनी रिपोर्ट देगी।

तारा यादव ने रविवार को अपनी पार्टी के नेताओं पर ही कई आरोप लगाए हैं। महिला नेता तारा यादव ने कहा कि एक तरफ हमारी पार्टी के नेता हाथरस पीडि़त के लिए न्याय के लिए लड़ रहे हैं। दूसरी तरफ एक दुष्कर्मी को पार्टी ने टिकट दे रही है। यह गलत निर्णय है। यह हमारी पार्टी की छवि को खराब करेगा।

गौरतलब है कि शनिवार को उप-चुनाव को लेकर कांग्रेस की बैठक में अचानक उस वक्त हंगामा खड़ा हो गया जब पार्टी की नेता तारा यादव पर आरोप लगा कि उन्होंने प्रदेश प्रभारी सचिन नायक पर हमला बोल दिया। इसके बाद देखते ही देखते हाथापाई होने लगी। कुछ प्रत्यक्षदर्शीयों ने बताया कि इस दौरान नायक पर गुलदस्ता भी फेंका गया।

वहीं इस मामले पर राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कहा कि मैंने एक वीडियो देखा जिसमें एक महिला को एक राजनीतिक दल की बैठक में मारा गया, हम चाहते हैं कि महिलाएं राजनीति में आएं, लेकिन ऐसा बर्ताव होगा तो हम कैसे उनको राजनीति में आने के लिए बढ़ावा देंगे। मैं यूपी पुलिस से अपील करती हूं कि सभी को जल्द गिरफ्तार किया जाए। इसके अलावा उन्होंने वीडियो शेयर करते हुए ट्वीट में कहा कि मानसिक रूप से ऐसे बीमारलोग कैसे राजनीति में चले आते हैं। इस मामले में संज्ञान ले रही हूं।