पांच महीने से बंद लखनऊ मेट्रो की सेवा फिर से शुरू, यात्रियों में उत्साह


मुसाफिर मेट्रो से यात्रा करने के लिए स्मार्ट कार्ड और टोकन दोनों का ही इस्तेमाल कर सकेंगे। लखनऊ मेट्रो देश की पहली ऐसी सेवा है जहां पर टोकन को सैनिटाइज़ करने के लिए यूवी तकनीक का इस्तेमाल होगा। -पंचानन मिश्र,जनसंपर्क अधिकारी, उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉरपोरेशन


भास्कर न्यूज भास्कर न्यूज
उत्तर प्रदेश Updated On :

लखनऊ। कोविड-19 महामारी के कारण घोषित लॉकडाउन के कारण पांच महीने से अधिक समय तक थमी रही लखनऊ मेट्रो रेल सेवा सोमवार सुबह से शुरू हो गई। अधिकारी ने बताया कि सुबह छह बजे से शुरू हुई मेट्रो सेवा में यात्रियों की ज्यादा भीड़ नही दिखी, लेकिन ज्यों ज्यों दिन चढ़ता गया यात्रियों की संख्या में इजाफा हुआ।

उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के जनसंपर्क अधिकारी पंचानन मिश्र ने बताया कि सुबह छह बजे से मेट्रो की सेवाएं शुरू हो गई है और जैसे पहले 16 ट्रेनें प्रतिदिन चलाई जाती थी वैसे ही आज भी पूरी तैयारी के साथ सभी ट्रेनो को चलाया गया। शुरुआत में यात्रियों की संख्या थोड़ी कम थी लेकिन ज्यों ज्यों दिन चढ़ता गया, यात्रियों की संख्या धीरे धीरे बढ़ती गई।

उन्होंने बताया कि यात्रियों में इस बात की खुशी थी कि कोरोना महामारी के दौरान अब बस और टेम्पो की यात्रा नही करनी पड़ेगी बल्कि एक सुरक्षित यात्रा का विकल्प उन्हें मिल गया है। उन्होंने कहा कि यात्रियों में मेट्रो सेवा आरंभ होने से बहुत उत्साह देखा गया। उन्होंने बताया कि मुसाफिर मेट्रो से यात्रा करने के लिए स्मार्ट कार्ड और टोकन दोनों का ही इस्तेमाल कर सकेंगे।

लखनऊ मेट्रो देश की पहली ऐसी सेवा है जहां पर टोकन को सैनिटाइज़ करने के लिए यूवी तकनीक का इस्तेमाल होगा। उप्र मेट्रो के अधिकारियों ने रविवार को मेट्रो संचालन की तैयारियों का जायजा लिया। बाद में जारी एक बयान के मुताबिक लखनऊ मेट्रो प्रबन्धन कोरोना काल में यात्रियों की सुरक्षा से जुड़े हर बिंदु का संज्ञान ले रहा है और उसने स्पर्शरहित यात्रा, सैनिटाइज़ेशन, सामाजिक मेले जोल से दूरी और स्वच्छता पर विशेष ध्यान दिया है।

उप्र में मेट्रो सेवा 22 मार्च से लॉकडाउन के कारण बंद हो गयी थी और इससे पहले मेट्रो में प्रतिदिन 60 से 70 हजार यात्री आते जाते थे।