पश्चिम बंगाल एसटीएफ के अधिकारी, फोरेंसिक विशेषज्ञ सुजापुर विस्फोट स्थल पहुंचे


संपर्क किये जाने पर राज्य एसटीएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘‘हमने दो बार घटनास्थल का दौरा किया है। हमने पूरे क्षेत्र को देखा है और जांच बहुत प्रारंभिक चरण में है। हमने कुछ स्थानीय लोगों से बात की है, लेकिन और अधिक तथ्यों को जांचने की जरूरत है।’’


भाषा भाषा
राज्य Updated On :
पश्चिम बंगाल सुजापुर में हुए विस्फोट में कई मजदूरों की मौत हो गई थी।


कोलकाता। पश्चिम बंगाल विशेष कार्यबल (एसटीएफ) के अधिकारियों ने शुक्रवार को मालदा जिले के सुजापुर में उस प्लास्टिक पुनर्चक्रण कारखाने का दौरा किया जहां एक विस्फोट में छह लोगों की मौत हो गई थी।

उन्होंने बताया कि फोरेंसिक विशेषज्ञों की एक टीम ने मौके से नमूने एकत्र किए।

मालदा मंडल के आयुक्त सैयद अहमद बाबा और राज्य पुलिस के अन्य वरिष्ठ अधिकारी घटनास्थल पर गए।

संपर्क किये जाने पर राज्य एसटीएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘‘हमने दो बार घटनास्थल का दौरा किया है। हमने पूरे क्षेत्र को देखा है और जांच बहुत प्रारंभिक चरण में है। हमने कुछ स्थानीय लोगों से बात की है, लेकिन और अधिक तथ्यों को जांचने की जरूरत है।’’

उन्होंने कहा कि विस्फोट क्या विस्फोटकों के कारण हुआ या किसी यांत्रिक खराबी के कारण, इस संबंध में जांच की जा रही है।

मालदा जिले में बृहस्पतिवार को हुए विस्फोट में छह व्यक्तियों की मौत हो गयी थी। राज्य में विपक्षी भाजपा ने घटना की जहां एनआईए जांच की मांग की थी, वहीं सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस ने उससे मुद्दे का राजनीतिकरण नहीं करने को कहा।

विस्फोट को लेकर राजभवन और प्रदेश सरकार के बीच वाकयुद्ध शुरू हो गया। राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से कहा कि ‘‘अवैध बम बनाये जाने’’ पर रोक लगायें।

राज्य के गृह विभाग ने तीखी प्रतिक्रिया जतायी थी, जिसका प्रभार खुद बनर्जी संभालती हैं। विभाग ने कहा था, ‘‘विस्फोट का अवैध बम बनाने से कोई लेना-देना नहीं है।’’