बैतूल में ट्रेन की चपेट में आये युवक का सिर ट्रेन के इंजन में फंसा हुआ बेंगलुरु में मिला


एक पुलिस अधिकारी ने शुक्रवार को बताया कि शासकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी) को तीन अक्टूबर को बैतूल के पास माचना पूल पर एक युवक की शव के कटे हुए हिस्से बरामद किये थे। लेकिन पुलिस को युवक का सिर नहीं मिला था जिससे उसके पहचान नहीं हो पा रही थी।


भाषा भाषा
राज्य Updated On :
फोटो-फाइल


बैतूल। मध्यप्रदेश के बैतूल रेलवे स्टेशन के पास कुछ दिन पहले रेलवे लाइन पर एक युवक का बिना सिर का क्षत विक्षत शव मिला था। रेलवे कर्मचारियों को बाद में युवक का सिर बैतूल से 1300 किलोमीटर दूर बेंगलुरु में राजधानी एक्सप्रेस ट्रेन के इंजन में सफाई के दौरान फंसा हुआ मिला।

एक पुलिस अधिकारी ने शुक्रवार को बताया कि शासकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी) को तीन अक्टूबर को बैतूल के पास माचना पूल पर एक युवक की शव के कटे हुए हिस्से बरामद किये थे। लेकिन पुलिस को युवक का सिर नहीं मिला था जिससे उसके पहचान नहीं हो पा रही थी।

जीआरपी बैतूल के प्रधान आरक्षक वेद प्रकाश ने बताया कि जांच में पता चला कि युवक की मौत नई दिल्ली से बेंगलुरु जाने वाली राजधानी एक्सप्रेस की चपेट में आने से हुई। पुलिस ने युवक का शव रेलवे लाइन से निकालकर पोस्टमार्टम के बाद शवगृह में रखवा दिया। उन्होंने बताया कि इस संबंध में जीआरपी द्वारा घटना की जानकारी सभी थानों में दी गई। इसके आधार पर चार दिन पहले यह पता चला कि राजधानी एक्सप्रेस के इंजन में बेंगलुरु में एक युवक का कटा हुआ सिर फंसा मिला है।

उन्होंने बताया कि उसकी फोटो के आधार पर युवक की शिनाख़्त की गई, जिसमें उसकी पहचान बैतूल निवासी रवि मरकाम (28) के रूप में हुई।

वेद प्रकाश ने बताया कि मृतक परिजनों की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने के कारण वे बेंगलुरु जाने में असमर्थ थे, इस कारण जीआरपी ने बेंगलुरु में ही उसके सिर को दफन कर दिया। तथा शव के शेष हिस्से को यहां परिवार को सौंप दिया गया है। उन्होंने बताया कि इस मामले की जांच के लिये बेंगलुरु से पुलिस का एक दल भी यहां पहुंचा था।

उन्होंने बताया कि फिलहाल यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि युवक ने आत्महत्या की थी या वह हादसे में मारा गया क्योंकि घटनास्थल पर कोई सबूत नहीं मिला है। उन्होंने कहा कि पुलिस मामला दर्ज कर विस्तृत जांच कर रही है।