ठंड के कारण जम चुकी डल झील पर लोगों को चलने से रोकने के लिए SDRF तैनात


अली ने कहा कि बर्फ की महीन परत पर चलना, खासकर डल झील पर जोखिम भरा हो सकता है। ऐसा करने से फिसल सकते हैं, गिर सकते हैं, हड्डी टूट सकती है और जानलेवा चोट भी आ सकती है।


भाषा भाषा
जम्मू-कश्मीर Updated On :
जमी हुई डल झील पर क्रिकेट मैच खेलते स्थानीय लड़के।


श्रीनगर। प्रशासन ने कश्मीर में न्यूनतम तामपान के जमाव बिंदू पर पहुंचने के कारण जम चुकी डल झील पर लोगों को चलने से रोकने के लिए एसडीआरएफ के कर्मियों को तैनात किया है।

श्रीनगर में राज्य आपात स्थिति परिचालन केन्द्र के नोडल अधिकारी आमिर अली ने कहा, ‘‘ तापमान के जमाव बिंदु पर पहुंचने के कारण घाटी में कई जगह पानी के स्रोत जम गए हैं। ऐसा पाया गया कि कई लोग, खासकर युवक और बच्चे जमे हुए पानी पर चल रहे हैं।’’

अली ने कहा कि बर्फ की महीन परत पर चलना, खासकर डल झील पर जोखिम भरा हो सकता है। ऐसा करने से फिसल सकते हैं, गिर सकते हैं, हड्डी टूट सकती है और जानलेवा चोट भी आ सकती है।

अली ने बताया कि जिला मजिस्ट्रेट श्रीनगर ने जमी हुई डल झील पर लोगों को चलने, खेलने या जाने से रोकने के लिए एक परामर्श जारी किया है, क्योंकि यह असुरक्षित है। उन्होंने कहा कि इसका उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

उन्होंने कहा, ‘‘ एहतियाती तौर पर, राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) के त्वरित कार्रवाई दल (क्यूआरटी) और ‘रिवर पुलिस’ को डल झील के पास तैनात किया गया है।’’

श्रीनगर में बृहस्पतिवार को न्यूनतम तापमान शून्य से 8.4 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया था। 1991 के बाद यह सबसे कम तापमान था, तब न्यूनतम तापमान शून्य से 11.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था।