जेबें जला रही तेल कीमतें, कोरोना से मर रहे लोग और सरकार बेखबर: कांग्रेस

भास्कर ऑनलाइन भास्कर ऑनलाइन
हरियाणा Updated On :

गुरुग्राम। हरियाणा प्रदेश कांग्रेस समिति की अध्यक्ष, कुमारी सैलजा के राजनैतिक सचिव व दक्षिण हरियाणा के प्रभारी राजन राव ने कहा कि तेल की कीमतें आम आदमी की जेब जला रही है, कोरोना से मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है, बावजूद इसके प्रदेश और केंद्र की भाजपा सरकार कोई सुध नहीं ले रही।

अगस्त तक देश में मौतों का आंकड़ा दस लाख के पार होने का अनुमान लगाया जा रहा है। विशेषज्ञों की ओर से लगातार तीसरी लहर की चेतावनी दी जा रही है, फिर भी भविष्य की चिंताओं को लेकर सरकार कतई गंभीर नहीं दिख रही।

भाजपा सरकार अभी दूसरी लहर से निपटने के ही माकूल बंदोबस्त नहीं कर पा रही है। कोरोना से मरने वालों की संख्या सरकारी आंकड़ों से कई गुना ज्यादा है, लेकिन सरकार पर इसका कोई असर नहीं दिख रहा।

सरकार अभी भी दूसरी लहर से निपटने और तीसरी लहर से बचने के माकूल बंदोबस्त करने की वजह अपने सियासी दांव पेचों में उलझी है। दूसरी ओर देश में तेल कीमतों की आड में आम आदमी की जेब पर लगातार बोझ बढ़ाती ही जा रही हैं।

पेट्रोल और डीजल के दाम में आज यानी 11 मई को फिर बढ़ोतरी हो गई है। पेट्रोल 27 पैसे प्रति लीटर तो डीजल 30 पैसे प्रति लीटर और महंगे हो गए हैं। इससे दो दिन पहले तक पेट्रोल और डीजल की कीमत में कोई बदलाव नहीं हुआ था।

8 मई से पहले लगातार चार दिनों तक कंपनियों ने पेट्रोल और डीजल के भाव में बढ़ोतरी की थी। इंडियन ऑयल की वेबसाइट के मुताबिक, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में आज एक लीटर पेट्रोल की कीमत बढ़कर 91.80 रुपये और डीजल का दाम 82.36 रुपये हो गया।

इसी तरह, मुंबई में पेट्रोल 98.17 रुपये और डीजल 89.48 रुपये, कोलकाता में पेट्रोल 91.92 रुपये और डीजल 85.20 रुपये और चेन्नई में पेट्रोल की कीमत 93.62 रुपये और डीजल 87.25 रुपये बिक रहा है। खाद्य तेल की कीमतें भी आसमान छू रही है।

पिछले साल के मुकाबले खाद्य तेलों के दामों में 55.55 फीसदी की बढ़ोतरी अभी तक दर्ज की जा चुकी है। अलग अलग तेल में अलग अलग बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है। चारों ओर से जनता पर अलग अलग तरह की मार पड़ रही है, लेकिन सरकार जनता को बचाने की बजाय कुर्सी के मद में डूबी है।