पूर्व सांसद पप्पू यादव हुए गिरफ्तार, रूडी की सांसद निधि से खरीदी गई एम्बुलेंस के बेकार पड़े रहने पर उठाए थे सवाल


पूर्व सांसद पप्पू यादव ने पिछले दिनों सारण से भाजपा के सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी की सांसद निधि से खरीदी गई करीब 30 से 40 एंबुलेंस के बेकार पड़े रहने का मसला उठाया था। इस मामले में उन पर दो एफआईआर भी दर्ज की गई हैं।


भास्कर ऑनलाइन भास्कर ऑनलाइन
बिहार Updated On :

पटना। बिहार में जन अधिकार पार्टी के संयोजक और मधेपुरा के पूर्व सांसद राजेश रंजन यादव उर्फ पप्‍पू यादव को उनके समर्थकों के साथ पटना की पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। बताया जाता है कि पूर्व सांसद पप्पू यादव को लॉकडाउन की लगातार अनदेखी व अन्य आरोपों के तहत हिरासत में लिया गया। पूर्व सांसद ने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी कि उनको अरेस्ट कर लिया गया है जबकि पुलिस अधिकारियों का कहना है कि यादव को हिरासत में लिया गया है।

पूर्व सांसद पप्पू यादव ने पिछले दिनों सारण से भाजपा के सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी की सांसद निधि से खरीदी गई करीब 30 से 40 एंबुलेंस के बेकार पड़े रहने का मसला उठाया था। इस मामले में उन पर दो एफआईआर भी दर्ज की गई हैं। पप्पू यादव के समर्थकों की ओर से ये कहा गया कि जाप नेता को पटना स्थित उनके निजी आवास पर बुद्धा कॉलोनी थाना के प्रभारी ने हाउस रेस्ट कर लिया है।

पटना पुलिस के सूत्रों ने बताया कि पटना डीएम ने अपने मजिस्ट्रेट के जरिए जाप नेता के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है। महामारी अधिनियम के तहत उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज हो रहा है। पुलिस ने उन्हें बार-बार चेतावनी दी थी, लेकिन बगैर ई-पास के वे बिहार में घूम रहे थे। कोविड अस्पतालों में अंदर कोरोना के मरीजों से मिल रहे थे। ऐसे में मंगलवार को आखिरकार उनके खिलाफ कार्रवाई की गई है।

पूर्व सांसद पप्पू यादव को हिरासत में लिए जाने की घटना के बाद सियासत भी तेज हो गई है। पूर्व सांसद ने ट्वीट किया लॉकडाउन उल्लंघन के नाम पर गिरफ्तारी सरकार ने खुद मार ली अपने पांव पर कुल्हाड़ी, जाग गयी जनता तो मोदी-नीतीश यह आपको पड़ेगी भारी।

एक दूसरे ट्वीट में कहा कोरोना काल में जिंदगियां बचाने के लिए अपनी जान हथेली पर रख जूझना अपराध है, तो हां मैं अपराधी हूं। PM साहब, CM साहब दे दो फांसी, या, भेज दो जेल झुकूंगा नहीं, रुकूंगा नहीं। लोगों को बचाऊंगा। बेईमानों को बेनकाब करता रहूंगा!