कोरोनावायरस संक्रमण की आड़ में उपेक्षित अन्य गम्भीर रोग


महामारियों ने वैश्विक यात्रा का आनन्द ले लिया है। पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था अब वैश्विक यातायात के बिना चल ही नहीं सकती। ऐसे में वैश्विक महामारियों को रोक पाना लगभग असम्भव सा है। कोराना संक्रमण ने हमें यह भी सबक दे दिया है कि घातक वायरस संक्रमण का दौर शुरू हो चुका है और इसे किसी वैक्सिन या दवा से रोक पाना आसान नहीं है। इसलिए सबक का मूल यह है कि हम इन वायरसों के साथ जीना सीख लें और अपने शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में लग जाएं।


भास्कर ऑनलाइन भास्कर ऑनलाइन
मत-विमत Updated On :

डॉ. एके अरुण
कोरोनावायरस संक्रमण के थमने की फिलहाल तो कोई सम्भावना नहीं लगती। यदि मान लें कि कुछ समय के लिए संक्रमण के मामले प्रकाश में नहीं आ पाए तो भी इससे निश्चित नहीं हुआ जा सकता। कोरोनावायरस पर अब तक के शोध बता रहे हैं कि इस संक्रमण के फैलने के कारणों को लेकर जो जानकारी उपलब्ध हो सकी है उसके अनुसार लम्बे समय तक इस वायरस के डर से मुक्त नहीं हुआ जा सकेगा। इसके अलावा स्पष्ट लक्षणों का अभाव, सुषुप्त संक्रमण का रहस्य, संक्रमण के जांच उपकरणों की विश्वसनीयता का अभाव, जांच की महंगी कीमत, जांच की सहज अनुपलब्धता आदि ऐसे कई पहलू हैं जिससे इस संक्रमण के नियंत्रण, बचाव और उपचार पर अब तक प्रश्नचिन्ह ही है।

कोरोनावायरस संक्रमण को लेकर वैश्विक स्तर पर शुरू से ही सन्देह के कई बिन्दु हैं। जैसे संक्रमण का उद्भव प्राकृतिक है या कृत्रिम? संक्रमण का प्रसार सांस, म्यूकस के जरिए होता है या वायु मार्ग से? संक्रमण के बाद लक्षण स्पष्ट होने में दो हफ्ते लगते हैं या ज्यादा? सब अभी भी प्रश्नवाचक चिन्ह के साथ ही हैं, इसलिए कोरोनावायरस संक्रमण के साथ सावधानी और बचाव का पूरा ध्यान रखना ही उचित है।

कोरोनावायरस संक्रमण पूरी दुनिया के लिए एकदम नई चुनौती है इसलिए इसकी स्पष्टता तक बाकी स्वास्थ्य समस्याओं को लम्बे समय तक नजरअन्दाज नहीं किया जा सकता। भारत ही नहीं पूरी दुनिया की स्वास्थ्य समस्याओं पर गौर करें तो कई ऐसे घातक रोग हैं जो रोजाना हजारों लोगों के मौत की वजह हैं। भारत के सन्दर्भ में यदि देखें तो यहां स्वास्थ्य की अन्य चुनौतियों में संचारी रोग, गैर संचारी रोग, प्रदूषण, लचर स्वास्थ्य व्यवस्था, जनसंख्या, पोषण आदि ऐसे अनेक गम्भीर व जटिल मसले हैं जिन्हें किसी भी तरह से यदि नियंत्रित नहीं किया गया तो रोजाना हजारों असमय मौतों को रोक पाना सम्भव नहीं होगा।

हमारे देश में पहले से ही चुनौती को जिन संचारी रोगों से पीड़ित लोगों की संख्या बहुत ज्यादा है उनमें मलेरिया से ग्रस्त होने वाले सालाना 20 लाख नए लोग, टयूबरक्लोसिस से प्रभावित लोगों की संख्या सालाना 22 लाख, कैंसर से ग्रस्त होने वाले लोग लगभग 30 लाख, मधुमेह से पीड़ित 73 लाख (72.96) लोग, उच्च रक्तचाप से प्रभावित 2 करोड़ लोगों के साथ देश की करीब आधी आबादी किसी न किसी रूप में गम्भीर रोगों के खतरे में जी रही है।

कोरोनावायरस के इस खौफनाक मंजर ने वर्ष 2016 की विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लू.एच.ओ.) की चेतावनी की याद दिला दी कि डेंगू, चिकनगुनिया, जीका जैसे रोग भारत के लिए “खामोश मौत” की तरह होंगे। ये उभरते संक्रामक रोग हैं जो हर साल और ताकतवर होकर आते रहेंगे। अकेले डेंगू से ही सालाना 39 करोड़ लोग (वैश्विक स्तर पर) संक्रमित होते हैं जिनमें से 9.6 करोड़ लोगों में रोग के लक्षण साफ तौर पर दिखाई देते हैं। ऐसे ही चिकनगुनिया भारत के अलावा 60 अन्य देशों की समस्या बन गया है। यह एक ऐसा रोग है जो संक्रमण के बाद या तो व्यक्ति की जान ले सकता है या उसे अपाहिज बना देता है। उल्लेखनीय है कि ये सभी मच्छरों के माध्यम से फैलने वाले रोग हैं और भारत सहित एशिया में मच्छरों का प्रकोप अगले कुछ वर्षों में और कई गुना बढ़ने वाला है।

अफ्रीका के बाद एशिया मच्छरों का सबसे बड़ा आशियाना है। विकास की सनक में ‘स्मार्ट’ होते शहर गौर गांव, समाज और लोग सब इन खतरनाक रोग फैलाने वाले मच्छरों के बढ़ने के लिए जिम्मेदार हैं। शोध पत्रिका ‘नेचर’ का विश्लेषण कहता है कि अमीर होना समाज में जलवायु परिवर्तन के लिए ज्यादा जिम्मेदार है और जलवायु परिवर्तन मच्छरों के बढ़ने के लिए जिम्मेवार है। ऐसे में मच्छरजनित रोगों का बढ़ना लाजिमी हैं। एक और पहलू है बीमारियों के बढ़ने का वह है वैश्विक तौर पर तापक्रम का बढ़ना। 

ग्लोबल वार्मिंग (वैश्विक गर्मी) की वजह से मच्छरों की नई और ज्यादा खतरनाक जाति हर साल कहर बरपा रही है। इसलिए मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया, जीका रोगों में वृद्धि देखी जा रही है। धीरे धीरे ये वायरस अपने को ज्यादा ताकतवर बनाते जा रहे हैं। इन पर कोई टीका या दवा उतना कारगर भी नहीं है। स्थिति ऐसी है कि ज्यों ज्यों दवा की मर्ज बढ़ते ही गए। ऐसे में मच्छरों को मारने या मच्छरों से होने वाले रोगों की दवा या वैक्सिन बनाने से ज्यादा जरूरी है कि मच्छरों के पनपने की सम्भावनाओं को घटाया जाए या खत्म किया जाए। उसके लिए ताबड़तोड़ विकास के फार्मूले से हट कर मानवीय व प्रकृति सम्मत विकास की सोच पर लौटना होगा और स्थाई व टिकाऊ विकास की नींव रखनी होगी? सुविधाओं को छोड़ना इतना आसान नहीं है लेकिन आपके पास कोई और चारा भी नहीं है।

इससे भी बड़ी समस्या, जिसकी अब तक कल्पना भी नहीं की जा सकी है, वह है कोरोना वायरस के संक्रमण का दूसरे रोगों के साथ कॉम्पलेक्स बना लेना। मसलन, इसे इस तरह समझें कि आपको मधुमेह है तो उसका असर आपकी आँखों की रोशनी पर पड़ता है। अगर आपको उच्च रक्तचाप की शिकायत है तो मधुमेह के कारण यह और बढ़ सकती है। इस तरह किसी एक कारण से दूसरे कारण पैदा होते हैं या उत्प्रेरित हो जाते हैं और रोगों का एक जटिल तंत्र देह को घेर लेता है। कोरोना के बारे में शुरू से कहा जा रहा है कि यह मधुमेह और उच्च रक्तचाप वालों पर जल्दी असर करता है। शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता अगर कम है तो कोरोना का संक्रमण अंततः एकाधिक अंगों को खराब कर सकता है। इस तरह शरीर में वायरस का प्रवेश रोगों का एक जटिल कॉम्पलेक्स निर्मित करता है। इस ओर अब तक ध्यान भी नहीं दिया गया है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लू.एच.ओ.) नारे तो बहुत अच्छा गढ़ लेता है लेकिन उसे जमीन पर उतारना एक कपोल कल्पना ही होती है। पिछले साल संगठन ने नारा दिया था ‘‘सबके लिए स्वास्थ्य – हर व्यक्ति हर जगह”(Universal Health Care : Everyone, Enverytime) लेकिन आंकड़े बताते हैं कि तमाम संसाधनों के बावजूद लोगों का स्वास्थ्य दुनिया भर में अपवाद को छोड़कर किसी भी सरकार की प्राथमिकता सूची में नहीं हैं।

संक्रामक रोगों के बारे में हमें यह समझ लेना चाहिए कि यह एक सामुदायिक स्वास्थ्य का मामला है। विगत तीन दशकों में सामुदायिक स्वास्थ्य की उपेक्षा का दण्ड हर साल भारत को मिलता रहता है लेकिन सरकारों की सेहत पर इसका खास असर नहीं दिखा शायद इसलिए कि इससे मरने वालों में अधिकांश गरीब लोग ही रहे हैं। विगत वर्षों का आंकड़ा देख लें तो मच्छर जनित रोग, जल जनित रोग व अन्य संक्रामक रोगों से मरने वालों में 90 फीसद आर्थिक रूप से कमजोर लोग हैं। कैंसर, उच्च रक्तचाप और अवसाद से ग्रस्त लोगों की मौत के आंकड़े को आर्थिक आधार पर विभाजित करने से गरीबों की मौत का प्रतिशत 80 फीसद से ज्यादा है।

भारत में बढ़ती बीमारियों की चुनौतियों में बड़े पैमाने पर ‘‘पलायन” भी एक महत्वपूर्ण कारण है। वर्ष 2019 के आंकड़े के अनुसार स्वयंसेवी संस्था अन्तरराष्ट्रीय श्रम संगठन (आई.एल.ओ.) कहता है कि भारत में कोई 45-55 करोड़ लोग बेहतर अवसर की तलाश में अपना घर छोड़ कर कहीं शहर या दूसरे देश चले जाते हैं या आते-जाते रहते हैं। यह स्थिति महामारियों के फैलने की सबसे बड़ी वजह है। मौजूदा व्यवस्था में फिलहाल तो यह सम्भव नहीं लगता कि लोगों को अपनी मूल जगह से कहीं और जाने से रोका जा सके लेकिन बढ़ती महामारियों के दौर में हालात के बिगड़ने की यह एक बड़ी वजह है।

देश की वर्तमान अर्थव्यवस्था का मूल आधार ही विस्थापन पर टिका है। रोजगार, श्रम, व्यवसाय, यातायात, उद्योग सबकी बुनियाद में विस्थापित लोग मजबूती से जुड़े हैं। ऐसे में किसी भी देश की किसी भी सरकार के लिए यह सम्भव नहीं है कि वह लोगों के आवाजाही पर रोक लगा सके। लोगों के एक शहर से दूसरे शहर तथा एक देश से दूसरे देश में जाने आने के कारण संक्रामक रोगों के फैलने की सम्भावना 90 फीसद से भी ज्यादा है। महामारियों ने वैश्विक यात्रा का आनन्द ले लिया है। पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था अब वैश्विक यातायात के बिना चल ही नहीं सकती। ऐसे में वैश्विक महामारियों को रोक पाना लगभग असम्भव सा है। कोराना संक्रमण ने हमें यह भी सबक दे दिया है कि घातक वायरस संक्रमण का दौर शुरू हो चुका है और इसे किसी वैक्सिन या दवा से रोक पाना आसान नहीं है। इसलिए सबक का मूल यह है कि हम इन वायरसों के साथ जीना सीख लें और अपने शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में लग जाएं। समझ रहे हैं न! प्रकृति से लड़ना बन्द करें। प्रकृति के साथ जीना सीख लें। कैसे? काफी हद तक वैसे जैसे ‘लाकडाउन’ में जी रहे हैं।

(डॉ. एके अरुण होमियोपैथ के मशहूर चिकित्सक हैं और दिल्ली में रहते हैं।)