उत्तरी कश्मीर में फिर से पांव पसारने की कोशिश में हिज्बुल मुजाहिद्दीन : सेना


सैन्य अधिकारी ने बताया, ‘‘(उत्तरी कश्मीर में) आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिद्दीन की गतिविधि बहुत कम है। ऐसा लगता है कि हिज्बुल फिर से उत्तरी कश्मीर में पांव पसारने की फिराक में है । ’’


भाषा भाषा
देश Updated On :

श्रीनगर। सेना ने शनिवार को कहा कि हिज्बुल मुजाहिद्दीन उत्तरी कश्मीर में फिर से पांव पसारने का प्रयास कर रहा है। एक दिन पहले ही बारामूला जिले में सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ में आतंकवादी संगठन के तीन आतंकियों को मार गिराया था ।

पुलिस उप महानिरीक्षक (उत्तरी कश्मीर रेंज) मोहम्मद सुलेमान चौधरी ने सेना की राष्ट्रीय राइफल्स के कमांडर सेक्टर-10 ब्रिगेडियर एन के मिश्रा के साथ संयुक्त तौर पर संवाददाता सम्मेलन को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि लंबे समय बाद उत्तरी कश्मीर में हिज्बुल मुजाहिद्दीन के आतंकवादी मारे गए । हालिया वर्षों में केवल लश्कर ए तैयबा और जैश ए मोहम्मद के आतंकी मारे गए हैं ।

सैन्य अधिकारी ने बताया, ‘‘(उत्तरी कश्मीर में) आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिद्दीन की गतिविधि बहुत कम है। ऐसा लगता है कि हिज्बुल फिर से उत्तरी कश्मीर में पांव पसारने की फिराक में है । ’’

हालांकि, उन्होंने कहा कि सुरक्षा बल सतर्क हैं और उत्तरी कश्मीर में फिर से पांव पसारने के आतंकी संगठन के मंसूबे को नाकाम करने के लिए तैयार हैं।

ब्रिगेडियर मिश्रा ने कहा, ‘‘अगर (आतंकियों में से) कोई मुख्यधारा में आना चाहता है तो हमेशा उनका स्वागत किया जाएगा लेकिन कोई आतंकी बनना चाहता है तो उसे कोई मौका नहीं मिलेगा ।’’

उत्तरी कश्मीर रेंज के डीआईजी ने कहा कि उत्तरी कश्मीर के बारामूला जिले के पट्टन के येदिपुरा इलाके में शुक्रवार को मार गिराए गए तीन आतंकी हिज्बुल मुजाहिद्दीन से जुड़े थे।

उन्होंने कहा, ‘‘मारे गए दो आतंकी स्थानीय थे और उनकी पहचान रावतपुरा, डेलिना के शफाकत अली खान और बारामूला के हन्नान बिलाल सोफी के तौर पर हुई । तीसरे आतंकी की पहचान नहीं हो पायी है । ’’

चौधरी ने कहा कि मुठभेड़ स्थल से दो एके-47 राइफल, चार मैग्जीन, एक पिस्तौल और पिस्तौल की दो मैग्जीन के साथ अन्य सामग्री बरामद की गयी।

उन्होंने कहा कि आतंकी एक मकान में छिपे हुए थे और बच्चों समेत 12 नागरिकों को बंधक बना लिया था । इसलिए सोच-समझकर अभियान चलाया गया क्योंकि पहली प्राथमिकता नागरिकों को सुरक्षित निकालना था।

सेना के एक मेजर और जम्मू कश्मीर पुलिस के दो विशेष पुलिस अधिकारी (एसपीओ) घायल हो गए लेकिन उनकी हालत स्थिर है ।