अफवाहों ने थामी खबरों की रफ्तार, कई अखबारों के प्रकाशन बंद


कोरोना वायरस ने देश के सभी
कारोबारी क्षेत्र को अपने चपेटे में ले लिया है. इस बीमारी से अभी तक मेनस्ट्रीम मीडिया
अछूता लग रहा था, लेकिन अब वह भी इस चपेटे में आ चुका है जिसमें सबसे अधिक मार
प्रिंट मीडिया क्षेत्र को पड़ रही है। लॉकडाऊन होते ही 23 मार्च से देश के कई अखबारों ने अपने एडिशन
छापना बंद कर दिया है और मुंबई में कोई भी अख़बार अब वितरित नहीं किया जा रहा है। और
चौकाने वाली बात यह है कि इस प्रिंट मीडिया हालत भी उसके सामानांतर चल रही सोशल
मीडिया ने ही की है।


भास्कर ऑनलाइन भास्कर ऑनलाइन
देश Updated On :

अफवाहें फैलाई जा रही हैं कि दूध, ब्रेड, नोट, अखबार से भी यह वायरस फैलता है और इस  भ्रामक प्रचार के चलते मुम्बई की कई हाऊसिंग सोसाइटियों की कमेटी ने अखबार बंद कर दिया है।  इन अफवाहों और गलत खबरों पर सरकार के मीडिया प्रभाग को तुरंत स्पष्टीकरण देना चाहिए था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। देश के कुछ हिस्सों में अखबारों के बंद होने से अब लोग विश्वसनीयता के मामले में पहले से ही संदिग्ध सोशल मीडिया की सूचनाओं पर पूरी तरह से निर्भर होकर रह गए हैं। 

 वहीं देखा जाय तो संक्रमण की बीमारी के चलते अखबारों के प्रबंधन भी समाचारों के संकलन में अपने रिपोर्टर्स और पत्रकारों को कठिनाईयों में डालना चाहते थे और सरकार भी जल्दबाजी और घबराहट में कोई सही उपाय करने में असमर्थ रही जिसका नतीजा रहा कि आज कई अखबारों को अपने एडीशन बंद करने पड़े हैं। सरकारी प्रयास और माध्यम इस समस्या का समाधान कर सकते हैं, लेकिन इसकी कोशिश अभी दूर-दूर तक नज़र नहीं आ रही है।

वहीं देखा जाय तो संक्रमण की बीमारी के चलते अखबारों के प्रबंधन भी समाचारों के संकलन में अपने रिपोर्टर्स और पत्रकारों को कठिनाईयों में डालना चाहते थे और सरकार भी जल्दबाजी और घबराहट में कोई सही उपाय करने में असमर्थ रही जिसका नतीजा रहा कि आज कई अखबारों को अपने एडीशन बंद करन् पड़ा है। सरकारी प्रयास और माध्यम इस समस्या का समाधान कर सकते हैं, लेकिन इसकी कोशिश अभी दूर-दूर तक नज़र नहीं आ रही है।देश के कुछ हिस्सों में अखबारों के बंद होने से अब लोग विश्वसनीयता के मामले में पहले से ही संदिग्ध सोशल मीडिया की सूचनाओं पर पूरी तरह से निर्भर होकर रह गए हैं।



Related