राहुल गांधी ने कहा- पेगासस मामले की SC की निगरानी में जांच हो, गृह मंत्री इस्तीफा दें


कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने इजरायली स्पाइवेयर पेगासस का उपयोग करके भारत के कई प्रमुख व्यक्तियों की कथित तौर पर जासूसी किए जाने को ‘राजद्रोह’ करार देते हुए शुक्रवार को कहा कि गृह मंत्री अमित शाह को इस्तीफा देना चाहिए और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भूमिका की उच्चतम न्यायालय की निगरानी में न्यायिक जांच होनी चाहिए।


बबली कुमारी बबली कुमारी
देश Updated On :

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने इजरायली स्पाइवेयर पेगासस का उपयोग करके भारत के कई प्रमुख व्यक्तियों की कथित तौर पर जासूसी किए जाने को ‘राजद्रोह’ करार देते हुए शुक्रवार को कहा कि गृह मंत्री अमित शाह को इस्तीफा देना चाहिए और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भूमिका की उच्चतम न्यायालय की निगरानी में न्यायिक जांच होनी चाहिए।

उन्होंने यह दावा भी किया कि पेगासस का उपयोग ‘भारतीय राज्य और संस्थाओं’ के खिलाफ किया गया तथा यह जनता की आवाज पर आक्रमण है।

राहुल गांधी ने संसद भवन के निकट विजय चौक पर संवाददाताओं से कहा, ‘‘पेगासस एक हथियार है जिसका उपयोग आतंकवादियों और अपराधियों के खिलाफ किया जाता है। हमारे प्रधानमंत्री और गृह मंत्री ने भारत के संस्थाओं और लोकतंत्र के खिलाफ इसका उपयोग किया। मेरा फोन टैप किया। यह मेरी निजता का मामला नहीं है। मैं विपक्ष का एक नेता हूं और मैं जनता की आवाज उठाता हूं। यह जनता की आवाज पर आक्रमण है।’’

उन्होंने दावा किया, ‘‘राफेल मामले की जांच रोकने के लिए पेगासस का उपयोग किया गया। नरेंद्र मोदी जी ने इस हाथियार का उपयोग हमारे देश के खिलाफ किया। इसके लिए सिर्फ एक शब्द है ‘राजद्रोह’।’’

राहुल गांधी ने कहा, ‘‘गृह मंत्री को इस्तीफा देना चाहिए और नरेंद्र मोदी की भूमिका उच्चतम न्यायालय की निगरानी में न्यायिक जांच होनी चाहिए क्योंकि इसके उपयोग का आदेश प्रधानमंत्री और गृह मंत्री ही दे सकते हैं।’’

उन्होंने दावा किया कि उनके फोन को टैप किया गया है।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने सवाल किया, ‘‘अगर भारत सरकार ने पेगासस का उपयोग नहीं किया तो किसी दूसरी सरकार ने किया होगा क्योंकि पेगासस को सिर्फ सरकार को बेचा जा सकता है। प्रधानमंत्री क्यों नहीं कहते कि इसकी जांच कराई जाएगी? इसका भी जवाब दें कि उन्होंने इसे खरीदा है या नहीं?’’

राहुल गांधी ने दावा किया, ‘‘मेरा फोन टैप किया गया है। मेरे सुरक्षा में लगे लोगों ने बताया कि मेरा फोन टैप किया गया। ऐसा तीन-चार बार किया गया। मेरे दोस्तों को फोन किया जाता है और बताया जाता है कि राहुल गांधी का फोन टैप किया जा रहा है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता है। साधारण सी बात है। अगर आप भ्रष्ट और चोर हैं तो नरेंद्र मोदी से आप डरेंगे, लेकिन आप भ्रष्ट और चोर नहीं हैं तो आप नहीं डरेंगे।’’

गौरतलब है कि मीडिया संस्थानों के अंतरराष्ट्रीय गठजोड़ ने दावा किया है कि केवल सरकारी एजेंसियों को ही बेचे जाने वाले इजराइल के जासूसी सॉफ्टवेयर के जरिए भारत के कुछ रसूखदार लोगों सहित बड़ी संख्या में कारोबारियों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के 300 से अधिक मोबाइल नंबर, हो सकता है कि हैक किए गए हों।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ने केंद्रीय कृषि कानूनों को लेकर कहा, ‘‘कृषि कानूनों को लेकर हमारा रुख स्पष्ट है कि इनको वापस लिया जाए। बातचीत का मामला नहीं है। मामला कानूनों को वापस लेने का है।’’



Related