पीएम और रक्षा मंत्री जी देश को बताइए कि चीन हमारी सरजमीं से कब्जा कब छोड़ेगा : कांग्रेस


‘‘राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को चीन के रक्षा मंत्री से बातचीत की। इससे पहले विदेश मंत्री ने अपने चीनी समकक्ष से बात की। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने अपने चीनी समकक्ष से दो बात की। राजदूत के स्तर पर कई बार बातचीत हुई। इन बातचीत का नतीजा क्या निकला?’’


भास्कर ऑनलाइन भास्कर ऑनलाइन
देश Updated On :

नई दिल्ली। कांग्रेस ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से आग्रह किया कि वह चीन के साथ चल रहे गतिरोध को लेकर देश को विश्वास में लें। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने सवाल किया कि चीन के साथ विभिन्न स्तरों पर हुई बातचीत का नतीजा क्या निकला?

उन्होंने एक वीडियो जारी कर कहा, ‘‘राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को चीन के रक्षा मंत्री से बातचीत की। इससे पहले विदेश मंत्री ने अपने चीनी समकक्ष से बात की। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने अपने चीनी समकक्ष से दो बात की। राजदूत के स्तर पर कई बार बातचीत हुई। इन बातचीत का नतीजा क्या निकला?’’

सुरजेवाला ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री जी और रक्षा मंत्री जी, देश को विश्वास में लीजिए। यह बताइए कि चीन हमारी सरजमीं से कब्जा कब छोड़ेगा? चीन से कब आंखों में आंख में डालकर बात होगी?’’

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राजीव शुक्ला ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम आशा करते हैं कि सरकार पूरी वस्तुस्थिति से देश का अवगत कराएगी। सरकार के भीतर से ही कई बार विरोधाभासी बयान आते हैं जिससे चिंता होती है।’’

उन्होंने कहा कि कांग्रेस उम्मीद भी करती है कि सरकार इस मामले का बातचीत से हल निकालेगी और देश की संप्रभुता के साथ कोई समझौता नहीं होगा।

गौरतलब है कि राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को मॉस्को में अपने चीनी समकक्ष वेई फेंघे से मुलाकात की।

अधिकारियों के मुताबिक, राजनाथ सिंह ने अपने चीनी समकक्ष से दो टूक कहा कि चीन ने लद्दाख में यथा स्थिति बदलने की कोशिश की, जो द्विपक्षीय समझौतों का उल्लंघन है।