कोरोना के खिलाफ लड़ाई के लिए बीसीसीई सहित कई क्रिकेट सितारों ने बढ़ाए हाथ


भारत की सबसे अमीर खेल संस्था भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने (BCCI) ने शनिवार को कोविड-19 महामारी के खिलाफ देश की लड़ाई के लिये
प्रधानमंत्री राहत कोष में 51 करोड़ रूपये दान में दिये।


भास्कर ऑनलाइन भास्कर ऑनलाइन
देश Updated On :

भारत की सबसे अमीर खेल संस्था भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने (BCCI) ने शनिवार को कोविड-19 महामारी के खिलाफ देश की लड़ाई के लिये प्रधानमंत्री राहत कोष में 51 करोड़ रूपये दान में दिये।
बीसीसीआई की विज्ञप्ति के अनुसार, ‘‘भारतीय क्रिकेट नियंत्रण बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष सौरव गांगुली, मानद सचिव जय शाह और अन्य अधिकारियों ने शनिवार को मान्यता प्राप्त संघों के साथ मिलकर देश की आपदा प्रबंधन क्षमताओं को मजबूत करने और भारतीय नागरिकों की रक्षा करने तथा कोविड-19 से निपटने के लिये अनुसंधान को प्रोत्साहित करने में योगदान देने के लिये प्रधानमंत्री के नागरिक सहायता एवं आपात स्थिति राहत कोष में 51 करोड़ रूपये दान देने की घोषणा की। ’’ बीसीसीआई के सबसे बड़े टूर्नामेंट इंडियन प्रीमियर लीग को भी 15 अप्रैल तक स्थगित कर दिया गया है, लेकिन मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए लगता है कि इसे रद्द किया जा सकता है। विज्ञप्ति में कहा गया है, ‘‘कोरोना वायरस का प्रकोप स्वास्थ्य आपात स्थिति है और बीसीसीआई का संकल्प है कि राष्ट्र को परीक्षा की इस घड़ी का सामना करने के लिए हर संभव मदद मिलेगी। ’’ पुडुचेरी और हैदराबाद पृथक केंद्र तैयार करने के लिये पहले ही अपने स्टेडियम देने की पेशकश कर चुके हैं और बीसीसीआई ने राज्य संघों को पूरा सहयोग देने का आश्वासन दिया है। बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने पीटीआई को दिये साक्षात्कार में कहा था कि अगर पश्चिम बंगाल सरकार चाहेगी तो वे ईडन गार्डन्स की सुविधायें मुहैया करा सकते हैं।   विज्ञप्ति के अनुसार, ‘‘बोर्ड अपने राज्य संघों के साथ केंद्र सरकार, राज्य सरकारों और अन्य राज्य नियामक संस्थाओं के साथ काम करना जारी रखेगा और विपरीत परिस्थितियों में सहायता प्रदान करने के लिये प्रतिबद्ध है। ’’    क्रिकेट जगत ने भी अन्य खिलाड़ियों के साथ इस बीमारी के खिलाफ देश की लड़ाई में मदद के लिये दान दिया है। क्रिकेटरों में सुरेश रैना ने अभी तक सबसे ज्यादा 52 लाख रूपये का योगदान दिया है। सचिन तेंदुलकर ने 50 लाख रूपये देने की घोषणा की थी। इस खतरनाक वायरस को फैलने से रोकने के लिये देश में 21 दिन का लॉकडाउन है जिससे दुनिया भर में करीब 25,000 लोगों की जान जा चुकी है। भारत में अब तक 19 लोगों की मौत हो गयी है जबकि 1000 के करीब लोग इससे संक्रमित हैं।



Related