बांदा में तिहरा हत्याकांड: नाली में चावल फेंकने को लेकर सिपाही, बहन व मां की हत्या


शहर कोतवाली अंतर्गत नाली में चावल फेंकने के मामूली बात को लेकर हुए विवाद में एक सिपाही, उसकी मां और बहन की कुल्हाड़ी से काटकर हत्या कर दी गई।


भास्कर ऑनलाइन भास्कर ऑनलाइन
क्राइम Updated On :

बांदा। उत्तर प्रदेश के बांदा जिले के शहर कोतवाली अंतर्गत नाली में चावल फेंकने के मामूली बात को लेकर हुए विवाद में एक सिपाही, उसकी मां और बहन की कुल्हाड़ी से काटकर हत्या कर दी गई। शुक्रवार को रात सवा 11 बजे हुई घटना से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई। जानकारी पर आइजी के. सत्यनारायण और एसपी सिद्धार्थशंकर मीना मौके पर पहुंचे।

इस मामले में कोतवाली पुलिस ने सिपाही के चचेरे भाइयों को गिरफ्तार कर लिया गया है जबकि अन्य दो आरोपित फरार हैं। पुलिस संपत्ति विवाद बताकर मामले की जांच में जुटी है। बताया जाता है कि शहर कोतवाली के कालूकुआं चौकी क्षेत्र के कपरिया मोहल्ला निवासी सिपाही अभिजीत वर्मा प्रयागराज में तैनात थे।

वह शुक्रवार को घर आए थे। यहां उनकी मां रामादेवी और बहन निशा रहती हैं। पुलिस के मुताबिक भगवानदीन के घर से नाली में चावल फेंक दिए गए। इसको लेकर सिपाही अभिजीत ने आपत्ति जताई तो शिवपूजन, देवराज, बब्लू व परिवार की एक महिला लाठी-डंडे और कुल्हाड़ी लेकर उस पर टूट पड़े।

इस दौरान उन्होंने उसे जमकर पीटा और कुल्हाड़ी से कई वार किए। सिपाही लहूलुहान होकर गिर गया तो उसकी मां और बहन बचाने दौड़ीं। सीओ सिटी आलोक मिश्रा ने बताया, इस मामले में मृत सिपाही के चचेरे भाई देवराज, शिवपूजन, बबलू और उनकी बहन को करीब दो बजे रात में छापेमारी कर गिरफ्तार कर लिया गया है।

सीओ ने बताया कि दिलीप झगड़े की सूचना पर दोनों पक्षों में समझौता कराने वहां पहुंचा था। बीच बचाव करने में उसे गंभीर चोट आई है। उसे इलाज के लिए सरकारी अस्पताल भेज गया है।

मिश्रा ने बताया, घटना की जानकारी मिलने पर बांदा परिक्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक के. सत्यनारायण, पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ शंकर मीणा और जिलाधिकारी आनन्द कुमार सिंह के अलावा कई वरिष्ठ अधिकारी मौके पर हैं। फिलहाल तिहरे हत्याकांड की जांच की जा रही है।