गुड़गांव में एक और फर्जी कॉल सेंटर का पर्दाफाश, दो गिरफ्तार


कॉल सेंटर चलाकर अमेरिका के लोगों को कम्पयूटर व इन्टरनेट के माध्यम से तकनीकी सहायता (Tech Support) देने के नाम पर ठगी की जा रही थी।


भास्कर न्यूज भास्कर न्यूज
क्राइम Updated On :

गुड़गांव। दिल्ली से सटे साइबर सिटी गुड़गांव में पुलिस ने एक और फर्जी कॉल सेंटर का खुलासा किया है। यहां टेक सपोर्ट के नाम पर अमेरिका के लोगो से ठगी की जा रही थी। अभी कुछ दिन पहले ही पुलिस ने एक ऐसे ही फर्जी कॉल सेंटर का खुलासा किया था। पुलिस ने यहां से दो लोगो को गिरफ्तार किया है।

गुड़गांव पुलिस आयुक्त केके राव को इसकी सूचना मिली तो उन्होंने एसीपी करण गोयल की देखरेख में साइबर थाना पुलिस की टीम गठित की और आवश्यक कार्रवाई का निर्देश दिए। इसके बाद तत्काल के टीम बनाकर डीएलएफ फेज-2 में चल रहे कॉल सेंटर पर छापा मारा। सहायक पुलिस आयुक्त अपराध प्रीतपाल सांगवान ने बताया कि कॉल सेंटर चलाकर अमेरिका के लोगों को कम्पयूटर व इन्टरनेट के माध्यम से तकनीकी सहायता (Tech Support) देने के नाम पर ठगी की जा रही थी।

पुलिस ने यहां से तीन कंप्यूटर के साथ ही करीब डेढ़ लाख रूपये बरामद किये है। एसीपी डीएलएफ करण गोयल की देखरेख में पहुंची टीम ने जब छापा मारा तो देखा कि दो कमरों में 12 लड़के हेडफोन लगाकर अंग्रेजी भाषा (अमेरिकी लहजे) में बात कर कर रहे थे। पुलिस टीम ने वहां पर काम कर रहे सभी कर्मचारियों को इकट्ठा किया और उनसे कॉल सेंटर के संचालन से सम्बन्धित कागजात की जानकारी मांगी गई तो कोई भी संतोषजनक जवाब नहीं मिला।

सहायक पुलिस आयुक्त प्रीतपाल सांगवान ने बताया कि पुलिस टीम द्वारा की गई पूछताछ में पाया कि इस कॉल सेंटर पर काम करने वाले कर्मचारी बेस्ट बिजी यूएस कंपनी के कर्मचारी बनकर टेक सपोर्ट के नाम पर अमेरिका के लोगों के साथ ठगी करते है। इस कॉल सेंटर का मालिक अमित ढांन्ढा है तथा सौरभ चौधरी इस कॉल सेंटर के संचालन को देखता है।

पुलिस टीम द्वारा की गई पूछताछ में पाया कि इस कॉल सेंटर पर काम करने वाले कर्मचारी बेस्ट बिजी यूएस कंपनी के कर्मचारी बनकर टेक सपोर्ट के नाम पर अमेरिका के लोगों के साथ ठगी करते है। इस कॉल सेंटर का मालिक अमित ढांन्ढा है तथा सौरभ चौधरी इस कॉल सेंटर के संचालन को देखता है।

पुलिस ने यहां से अमित ढान्ढा और सौरभ चौधरी को हिरासत में ले लिया। एसीपी सांगवान ने बताया कि पुलिस पूछताछ में पता चला कि ये दोनों पहले एक प्राईवट कम्पनी में आई.टी. सोल्यूशन का काम करते थे, वहां काम करते हुए इन्होनें फर्जी रुप से यह काम करके ज्यादा रुपये कमाने का आईडिया आया और करीब तीन पहले इन्होनें इस कॉल सेंटर को खोला और अमेरिका के लोगों को यूएस कंपनी का कर्मचारी बताकर व उन्हे तकनीकि सहायता देने के नाम पर उनके साथ ठगी करते थे। अमेरिका के लोगों से ये गिफ्ट कार्ड के माध्यम से पैसे लेते थे।
पुलिस ने अमित और सौरभ के खिलाफ कई धाराओं में के दर्ज किया है। सहायक पुलिस आयुक्त ने बताया कि दोनों से इस सम्बन्ध में पूछताछ की जाएगी। उन्होंने बताया कि दोनों को अभी कोर्ट में पेश किया जायेगा।