तिहरे हत्याकांड : पत्नी और बेटे की हत्या करने से पहले डॉक्टर ने लिखा नोट, कहा- अब लाशें नहीं गिननी हैं


डॉक्टर ने हाथ से लिखा नोट छोड़ा था जिसमें लिखा था कि वह एक लाइलाज बीमारी से जूझ रहा है और कोविड-19 किसी को भी नहीं छोड़ेगा।


भाषा भाषा
क्राइम Updated On :

कानपुर। कानपुर जिले में अपनी पत्नी और बच्चे की 10 दिन पूर्व हत्या करने के बाद लापता हुए डॉक्टर का सड़ा-गला शव रविवार को सिद्धनाथ घाट के नजदीक बरामद हुआ। कानपुर के पुलिस आयुक्त असीम अरुण ने बताया कि शव बहुत सड़-गल गया है जिसकी वजह से कोई भी उसकी पहचान नहीं कर पा रहा है।

एक स्थानीय युवक ने शव को पहचाना है। शव की डीएनए जांच कराई जाएगी। बाद में पुलिस उपायुक्त पश्चिमी बीबीजीटीएस मूर्ति ने बताया कि डॉक्टर सुशील कुमार का आधार कार्ड, उसकी कार की चाबियां, ड्राइविंग लाइसेंस और मोबाइल फोन बरामद कर लिया गया है।

गौरतलब है कि कानपुर के एक निजी मेडिकल कॉलेज के फॉरेंसिक मेडिसिन विभाग के अध्यक्ष डॉक्टर सुशील कुमार ने कथित रूप से कोविड-19 से तंग आकर तीन दिसंबर को कल्याणपुर स्थित अपने मकान में अपनी पत्नी चंद्रप्रभा और बेटे शिखर की हत्या कर दी थी।

कुमार ने मौके पर हाथ से लिखा नोट छोड़ा था जिसमें उसने कहा था कि वह एक लाइलाज बीमारी से जूझ रहा है और कोविड-19 किसी को भी नहीं छोड़ेगा। वह अपने परिवार को किसी तकलीफ में छोड़कर नहीं जाना चाहता।

वहीं इस नोट में डॉ. सुशील ने अपने परिवार की हत्या के साथ ही अन्य बातों का भी जिक्र करते हुए कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन के बारे में भी विस्तार से लिखा है।